Home How to earn KPO क्या है और इसके काम

KPO क्या है और इसके काम

38
0
SHARE
क्या आप जानते है की KPO क्या ( what is kpo on hindi )? KPO knowledge व सुचना आधारित service से संबधित service है इसमें candidate को उच्च शिक्षा की आवश्कता होती है। इसलिए आज मेने सोंचा क्यों न आपलोगो को KPO क्या है के बारे में पूरी जानकारी दे दूँ ताकि भविष्य में समझने में दिक्क्त न हो तो चलिए बिना देरी किये शुरू करते है।

KPO का Full Form ‘Knowledge precess outsourcing’ होता है। जिस तरह BPO popular है उतना KPO नहीं है। इसके लिए high level एजुकेशन की आवश्कता होती है इसके लिए technical और analytical ecpertise की जरुरत होती है। इसमें बहुत सारे काम आते है जैसे कानूनी सेवा, बौद्धिक सम्पदा एवं पेटेंट से जुडी सेवाएं, अभियांत्रिकी सेवाएं, वेब डेवलपमेंट, कैड/कैम अनुप्रयोग, व्यापार अनुसंधान एवं विश्लेषण, कानूनी अनुसन्धान, चिकित्सा अनुसंधान, प्रकाशन और विपणन अनुसंधान जैसी सेवाएं सम्मिलित है। खास तोर से skilled labour के अभाव के कारण से ही core processes specialized knowledge और expertise के लिए kpo की आवश्कता पड़ती है।

KPO Candidate की Educational Qualification

एक KPO industry के हिसाब से candidate के पास technical degree या bachelor’s degree in science, maths या भीर किसी भी field में। इस काम के लिए कही-कही experience की भी demand की जाती है।

kpo kya hai.what is kpo in hindi.bpo and kpo difference in hindi.is kpo a call center.what is kpo job profile
KPO क्या है और इसके काम

आउटसोर्सिंग का मतलब क्या है ?

जब आप किसी नया व्यवसाय को शुरू करना चाहते है या भीर अपने व्यवसाय को बढ़ाना चाहते है तो सबसे पहले staff, sufficient infrastructure, proper expertise इत्यादि की अभाव हमेसा रहता है। इस तरह की स्थिति में सभी संसाधन को तुरंत बिकसित कर पाना काफी कठिन है और न ही economical बात है। इसके लिए सबसे अच्छा उपाय outsource होता है इससे समय के साथ पैसो की भी बचत होती है और अच्छी quality में भी मिलती है।

KPO के Advantage क्या है
वैसे तो KPO के बहुत सारे advantages है लेकिन यहाँ हमलोग उसके कुछ मुख्य advantages के बारे में जानते है।

Business process की speed और efficiency कभी हद तक बढ़ जाती है।

Organization की growth बड़ जाती है क्योकि जब capital resource और asset expenditures की जरुरत नहीं होती है।

Organization को उनके unrelated primary business strategy assets केलिए समय देने की जरुरत नहीं पड़ती है जिससे वो सारा ध्यान core strategies को विकसित करने में लगा सकते है।

इसका operating cost काफी काम होता है।

improve automation होता है।

scaling में ज्यादा flexibility का होना

इससे वो experts और technology को कभी easly eccess कर सकते है।

Consumer और Productd के बारे में अच्छी से अच्छी analytics बनाया जा सकता है।

Outsourcing के फायदे

outsourcing के बहुत से फायदे है लेकिंग हमलोग यहाँ कुछ महत्वपूर्ण फायदे के विषय में जानेंगे।

1. अपने कुछ कामो को दूसरे को शॉप देने से समय का बचत होता है जिसका उपयोग वे अब्ने core activities पर लगते है।

2. अपने दूसरी जिम्मेदारियां का BPO के साथ outsourcing करके, अपने बहुत सारे काम को सही समय में करवा लेते है वो भी काम कीमतों पर जिससे कंपनी कभी अधिक लाभ होता है।

3. इससे overhead cost reduction भी hoti है जो की बहुत अच्छा advantage होता है। बहुत सारे प्रकिरिया करने के लिए generally बड़े ingrastructure, Investment. maintenance और दूसरे पवेरहेड्स की जरुरत होती है।

4. अदि कोई कर्मचारी बिना कुछ कहे नौकरी छोड़ देता हो, या बिना short notice दिए बिना काम छोड़ देता है तब भी कंपनी के कोई ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है

5. यदि company कोई एक बड़ा project को सुरु करती है और उस company के पास उस प्रोजेक्ट को पूरा करने में जो skills लगेगी वो उनके कर्मचारी के पास नहीं भी है तो on-site outsourcing करने से उनके employees को नए skills सिखने का मौका मिलता है

BPO और Call centre के बीच का अंतर

BPO (Business Process Outsourcing) वो organization होता है जहाँ किसी व्यवसायिक संस्था के किसी process के performance के लिए उत्तरदायी होता है। यह outsourcing के लागत को काम करने के लिए किया जाता है, जिससे अधिक मुनाफा हो।

Call centre उसे कहा जाता है, इसमें मुख्य रूप से handling telephone calls होता है जैसे call centre, customer complants को telephone के जरिये solve किया जाता है।

मुझे पूर्ण आशा है की मेने आप लोगो कोपीओ क्या है (What is KPO on hindi) के बारे में पूरी जानकारी दे पाया हूँ। मेरी आप लोगो से निवेदन है की इस जानकारी को अपने आस पड़ोस, मित्रों तथा रिस्तेदारो तक पहुचाये ताकि इसके बारे में लोगो को समझने में दिक्क्त न हो, इससे जागरूकता बढ़ेगी।

मेरा सुरु से यही कोसिस है की में अपने readers को सही और पूरी जानकारी दे सकू, ताकि आप लोगो को help मिल सके, यदि आप लोगो को इस लेख के विषय में कोई doubt है तो आप मझे कमेंट बॉक्स में लिख कर पूछ सकते है में आपके हर doubt को हल करने की कोशिश करूँगा। यदि सच आप लोगो को यह लेख पसंद आया हो तो इसे social network से शेयर कर प्रसनता जाहिर करे। जैसे facebook, google+ और twitter में।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here